GPS क्या है? और कैसे काम करता है?

GPS का नाम तो आपने जरुर सुना होगा या अपने मोबाईल में भी ये अँप्शन आपने देखा होगा या फिर कोई जब लोकेशन की परमिशन माँगता हो तब GPS की आवश्यकता होती हैं। क्या आप जानते GPS क्या हैं ? इसका  इस्तेमाल कहा किया जाता है? ये सब हम इस पोस्ट में आपको बताने वाले हैं ।

GPS क्या है?

GPS क्या है? यह एक ऐसा सिस्टम हैं जो सभी मोबाइल फोन के अलावा वाहनों में भी उपयोग किया जाता हैं ।  GPS की फुलफाँर्म – Global Positioning System है । यह एक Global Navigation Satellite System है जो की किसी भी चीज की लोकेशन पता करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है । इस सिस्टीम  को सबसे पहले अमरिका में Defence Department ने 1978 में बताया था । उस समय ये सिस्टम सिर्फ US Army के इस्तेमाल के लिए बनाया गया था लेकिन बाद में 1980 ये सभी के लिए बनाया गया और आज हम ये हमारे मोबाइल में भी देखने को मिलता हैं और इस तकनिक का सबसे ज्यादा इस्तेमाल navigation  या रास्ता ढुँढने के लिए किया जाता हैं । अब ये Technology इतनी ज्यादा इस्तेमाल होती हैं की इसे आप  अपने मोबाइल में रेलवे में ,बस ,हवाई जहाज में  यहाँ तक की गाडियो में भी इसका इस्तेमाल होता है । जैसा कि आप जानते हैं इसका इस्तेमाल रास्ता ढुढने के लिए ज्यादा होता हैं। इसकी मदद से हम कहीं भी रास्ता आसानी से पता चालता है। हम अपनी लोकेशन से किसी दुसरी लोकेशन की दूरी आसानी से पता कर सकते है। इसके इस्तेमाल से आप अपने स्थान पर आसानी से पहुंच सकते हैं।

GPS  काम कैसे करता है? 

GPS Navigation

जैसा की पहले बताया हमारा Mobile GPS receiver  की तरह काम करता है। हमारा फोन सबसे पहले किसी नजदीकी सैटेलाईट से जुडता है और यह सिर्फ एक साथ जुडता नहीं हैं अपने नजदीकी सैटेलाइट आपके फोन से अलग अलग जानकारी लेते है और आपकी लोकेशन ,स्पीड आदि की जानकारी देता है।

मोबाइल फोन इंडस्ट्री में  GPS के प्रकार आजकल बढ़ते मोबाइल फोन इंडस्ट्री में इनका उपयोग तेज़ी से बढ़ रहा है । ये दो प्रकार के होते हैं जो इस प्रकार है

1. A-GPS(असिस्टेड GPS) इस तरह के GPS का इस्तेमाल GPS ही आधारित पोजिशनिंग सिस्टम के शुरु होने वाले समय को कम करने के लिए किया लाँक करने में रिसीवर की सहायता करता हैं । ऐसा करने के लिए हालांकि मोबाइल फोन में एक नेटवर्क कनेक्शन की भी जरुरत होती हैं क्योंकि A-GPS असिस्टेड सर्वर का इस्तेमाल करता हैं ।

2.S-GPS( साइमलटेनियसGPS)  एक नेटवर्क कैरियर के लिए सैटेलाइट  आधारित रिपोर्टिंग को सुधारने के लिए यह तरिका अपनाया जाता हैं । S- GPS से ही मोबाइल फोन को GPS और वाँइस डाटा दोनो एकही समय पर मिलते है! इससे ही नेटवर्क प्रोवाइडर लोकेशन आधारित सर्विस दे पाते हैं ।
निष्कर्ष -मुझे उम्मीद है आपको इस जानकारी से मदद मिलेगी ।

सामान्य प्रश्न

GPS की फुल फॉर्म क्या है?

GPS की full form हिंदी में वैश्विक स्थान-निर्धारण प्रणाली है, And in English, it is also known as Global Positioning System.

क्या अब भारत के पास अपना खुद का जीपीएस है?

जी हाँ, अब भारत के पास भी अपनी खुदकी 9 सटेलाईट्स हैं जिनके इस्तेमाल से भारत अपने क्षेत्र में और पडोसी देशों में निगरानी कर सकता है। भारत के अपने खुद के GPS को Indian Regional Navigation Satellite System ( IRNSS ) और NAVIC -Navigation with Indian Constellation के नाम से भी जाना जाता है जिसे ISRO के वैज्ञानिकों ने बनाया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *